आमिर खान की जीवनी (Biography) पूरी कहानी जीवन का सच

आमिर खान Bollywood में mister perfectionist के नाम से जाने जाते है दुनियाभर में उन्हें अपनी जानदार और शानदार acting के लिए जाना जाता है आमिर सिर्फ एक बार में एक ही movie में focus करते हैं वह दूसरे actors की तरह एक साथ कई movies नहीं करते हैं इसलिए उन्हें mister perfect कहा जाता है।

आज की इस article में आमिर खान की जिंदगी के बारे में और वह कैसे बॉलीवुड के उन चुनिंदा एक्टर में से एक actor बने जिनके बिना bollywood अधूरा सा लगता है । आमिर खान का पूरा नाम मोहम्मद आमिर हुसैन खान है। इनका जन्म 14 मार्च 1965 को मुंबई में हुआ था। इनके पिता का नाम ताहिर हुसैन खान था जो कि एक जाने-माने film producer और director थे कहने को तो आमिर के पिताजी बहुत बड़े director थे लेकिन वह ज्यादातर फिल्में flop ही दे रहे थे उनकी कुछ चुनिंदा फिल्में ही हिट हुई थी जिसके कारण उन्हें आमिर की पढ़ाने में तकलीफो का सामना करना पड़ रहाथ था।

और वरुण की स्कूल फीस भी नहीं दे पा रहे थे और इनकी माता का नाम जीनत हुसैन था जो कि housewife थी आमिर खान के अलावा उनके तीन भाई-बहन भी थे आमिर का जीवन हमेशा से फिल्मों के साथ जुड़ा रहा है पिता के अलावा उनके अंकल नासिर हुसैन के साथ मिलकर उन्होंने बहुत काम किया है जिसके कारण उन्होंने फिल्म जगत की खूबियों को सीखा और एक सफल अभिनेता बनने में कामयाब हुए आमिर actor होने के साथ-साथ आमिर खान एक निर्देशक, समाजसेवी भी है।

Aamir education

आमिर खान ने अपने जीवन में 3 स्कूलों से शिक्षा प्राप्त की क्योंकि उनके पिता को निर्देशन में ज्यादा सफलता हासिल नहीं हुई जिसके कारण उनके पिताजी को उनकी फीस भरने में problem face करनी पड़ती थी । जिसके कारण उन्हें school बदलना पड़ता था इस डर से कि कहीं उन्हें स्कूल से निकाल न दिया जाए आमिर खान ने सबसे पहले शिक्षा जेबी बैटरी स्कूल से तथा इसके बाद उन्होंने आठवीं तक बांद्रा के सेंट मैरी स्कूल से शिक्षा को प्राप्त किया और अंत में उन्होंने मुंबई स्कॉटिश स्कूल माहीम से आगे की पढ़ाई को पूरा किया आमिर खान पढ़ने में ज्यादा अच्छे नहीं थे। पर उन्हें sport में ज मजा आता था। सभी sports उनका सबसे ज्यादा favorite sport table tennis था। उन्हें टेनिस खेलना बहुत ज्यादा पसंद था

Carrier

आमिर खान का बचपन पहले से ही फिल्मों से जुड़ा रहा है उन्होंने अपने carrier की शुरुआत अपनी पहली फिल्म यादों की बारात 1973 में की थी। उस समय उनकी उम्र सिर्फ 8 साल थी। इसी साल उन्होंने उनके पिता के द्वारा डायरेक्ट की गई movie मदहोश में भी काम किया ।

आमिर 16 साल के थे। तब उन्होंने एक मूवी डायरेक्ट भी की थी जिसका नाम 160 रेड मूवी था। उनके द्वारा किया गया यह पहलाप्रयोग था जो कि विफल रहा । इस फिल्म को बनाने के बाद खान अवांतर नामक एक ग्रुप में शामिल हो गए जहां पर वे 1 साल तक पर्दे के पीछे की भूमिका निभाते रहे यहीं से उनकी अभिनय की शुरुआत हुई और उन्होंने दो हिंदी नाटक और एक अंग्रेजी नाटक में काम किया इसके बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और अपने माता-पिता के विरोध में जाकर नासिर हुसैन के साथ असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में काम करने लगे 1984 में फिल्म जगत में ड्यूटी करने का मौका मिला मतलब उन्होंने एक फिल्म की जिसका नाम होली था । इसके बाद 1988 में कयामत से कयामत फिल्म मिली जिसे उन्हें उनकी डेब्यू फिल्म कहा जाता है। इसके लिए उन्हें filmfare बेस्ट मेल अवार्ड भी मिला । सन 1989 में आई उनकी एक फिल्म ग्राहक ने उनका जीवन ही बदल दिया और इस फिल्म को कई ज्यादा award से नवाजा गया आमिर खान ने अपने करियर में कई उतार चढ़ाव देखे हैं लेकिन आज वह, उस मुकाम पर खड़े हैं शायद मुश्किल से ही कोई पहुंच सकता है ।
आमिर आज पूरी दुनिया में मिस्टर परफेक्शनिस्ट के नाम से जाने जाते हैं

Awards

आमिर खान को अपने करियर में बहुत से अवार्ड से नवाजा गया है जिसमें 4 national award तथा 7 filmfare award शामिल है । इतना ही नहीं भारत सरकार के द्वारा 2003 में उन्हें पद्मश्री और 2010 में पद्म भूषण से भी नवाजा गया है।

Leave a Reply