भानगढ़ किले का इतिहास “एक अनसुलझा रहस्य” Bhangarh Ka Kila

भारत में ऐसे कई किले है जो भारत के गौरव का प्रदर्शन सिर्फ भारत में नहीं बल्कि पुरे विश्व में करते है। पर भारत में इन किलो के बीच एक Bhangarh ka kila ऐसा किला है जिसका नाम सुनकर दिन में भी लोगो के रौंगटे खड़े हो जाते है यह किला राजस्थान के अलवर गांव में है। बताया जाता है अगर सूर्यास्त होने के बाद गलती से भी कोई व्यक्ति इस किले के अंदर चला जाता है तो उसका जिन्दा वापिस आना नामुमकिन है।

bhangarh ka kila

लेकिन क्या यह सच है की वहां पर भूत रहते है अगर वहां पर भूत रहते है। तो वह रात के समय ही क्यों अपनी शक्ति का प्रदर्शन करते है। आखिर ऐसा क्यों कहा जाता है की रात के समय Bhangarh ka kila में जाने से कोई वापिस नहीं आता। ऐसे ही कई सवालों के जवाब हम इस लेख के माध्यम से आपको बतायंगे तो चलिए जानते है भानुगढ़ के किला के बारे में –

Bhangarh Ka Kila History Ek Rahasya

  • बनवाया – राजा भगवन दास
  • कब – सन 1631
  • वर्तमान स्थान – राजस्थान

यह किला अजमेर के राजा भगवन दास में सन 1573 में बनवाया था। लेकिन बाद में इसे भगवन दास के छोटे बेटे और मुग़ल बादशाह अकबर के नवरत्नों में शामिल मानसिंह के भाई माधव सिंग ने इसे अपनी रियासत बना लिया था।

माधव सिंग के दो वंशज थे इन दोनों ने औरंगजेब के शासन औरंगजेब के दबाव में आकर इन्होंने मुसलमान धर्म अपना लिया। इसके बाद उन्हें भानगढ़ दे दिया गया था।

कुछ समय बाद मुगलों शासन के कमजोर पड़ने पर राजा सवाई सिंग ने इन दोनों की हत्या करके भानगढ़ पर कब्जा कर लिया। और इसके बाद माधो सिंग के वंशजो को गद्दी सौंप दी।

भानगढ़ की कहानी और इसका सच

कहा जाता है की Bhangarh ka kila और इसके आसपास के क्षेत्रों में भूतप्रेतो का बसेरा है भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा इस किले के साथ इसके आसपास के इलाके को संरक्षित कर दिया है। इन भूतप्रेतो को लेकर यहाँ पर कुछ कहानी प्रचलित है आइये जानते है उन भानगढ़ की कहानियों के बारे में –

पहली कहानी – रत्नावती भानुगढ़ की राजकुमारी

भानगढ़ की राजकुमारी जिनकी सुंदरता के आगे चाँद भी शर्मा जाए। उनकी इसी सुंदरता पर एक दिन जब वह महल से बाहर निकली तो उन पर एक तांत्रिक की निगाह पड़ी वह राजकुमारी की सुंदरता देख उन पर मोहित हो गया और उसने राजकुमारी से शादी करने के इक्ष्छा जताई पर राजकुमारी ने तांत्रिक के साथ शादी करने के साफ इंकार कर दिया।

पर उस तांत्रिक ने राजकुमारी रत्नावती से शादी करने की ठान ली और वह रत्नावती हर छोटे – बड़ी गतिविधि पर नजर रखने लगा एक दिन उसने देखा राजकुमारी के सेवक उनके लिए इत्र खरीद रहा है। तांत्रिक में अपने तंत्र मंत्र से उस सेवक को मोहित कर उसमे अपने काले जादू का प्रयोग किया लेकिन राजकुमारी के एक दूसरे सेवक ने उस तांत्रिक को ऐसा करते हुए देख लिया और इसकी सूचना तुरंत राजकुमारी रत्नावती को दी।

राजकुमारी ने उस इत्र की बोतल को चट्टान पर रखा और तांत्रिक को मारने के लिए कुछ सैनिक भेजे लेकिन मरने से पहले उस तांत्रिक ने उस राजकुमारी के साथ पूरे भानगढ़ को नष्ट होने का श्राप दे दिया।

उसके श्राप के चलते कुछ ही समय बार राजकुमारी रत्नावती की मृत्यु हो गई और साथ ही कुछ समय बाद भानगढ़ किला नष्ट हो गया। कहा जाता है आज राजकुमारी रत्नावती की आत्मा इस भानुगढ़ के किले ने घूमती है और इस किले में लोगो को आने से रोकती है।

आज भी इस किले में सैनिको के अस्त्र शस्त्र की आवाज के साथ पायल, रोने, चीखने, चिल्लाने की आवाज आती है। इसीलिए कोई रात में तो क्या दिन में इस किले के आसपास जाने भी डरता है। आज के समय में भारत का यह किला सबसे डरावने किले में सुमार है।

दूसरी कहानी – भानगढ़ एक श्रापित स्थान

भानगढ़ गुरु बालूनाथ द्वारा के शापित स्थान है। हैरान कर देने वाली बात यह है की गुरु बालूनाथ ने ही इस किले के निर्माण की अनुमति दी थी। पर साथ ही यह चेतावनी भी दी थी कि इस किले की ऊंचाई उनके ध्यान करने वाले स्थान पर न पड़े।

पर वहां के राजा ने उनकी इस बात पर ध्यान नहीं दिया और किले की परछाई गुरु बालूनाथ के ध्यान करे वाले स्थान पर पड़ने लगी। इससे क्रोधित होकर बालूनाथ ने राजा को श्राप दे दिया इसी श्राप के चलते भानगढ़ के लिए के साथ पूरा राज्य भी नष्ट हो गया।

bhangarh kila rahsya

भानगढ़ किले के कुछ रोचक तथ्य

  1. कहा जाता है इस किले में एक मूर्ति है जो भी लोग कैमरे से इस मूर्ति की फोटो लेने की कोशिश करता है। वह कैमरा ख़राब हो जाता है।
  2. इस किले रात के समय रोने और चीखने की आवाज आती है।
  3. राज्य सरकार द्वारा भानगढ़ किले के चारो तरफ बोर्ड लगे हुए है जिसमे साफ लिखा सूर्यौदय के पहले और सूर्यास्त के बाद वह पर प्रवेश पूर्णतया वर्जित है।

भानगढ़ का किले ‘Bhangarh ka kila‘ लोग करीब चार सौ साल पहले उजड़ा बताते है पर उसका नष्ट होना किस वर्ष में प्रारम्भ हुआ यह कोई नहीं जानता फिलहाल यहाँ पर कोई किसी भी व्यक्ति के जाने पर प्रतिबंध है। और वर्तमान में भारत सरकार की सपत्ति है।

2 Comments

  1. Mohit 01/02/2018

Leave a Reply