History of Taj mahal with 33 facts in hindi – ताजमहल का इतिहास और 33 अनसुने तथ्य

ताजमहल का इतिहास बहुत ही रोचक है ताजमहल भारत के आगरा शहर में यमुना नदी के किनारे स्थित एक विश्व धरोहर मकबरा है, यह भारत की शान और प्रेम का प्रतीक माना जाता है शाहजहाँ अपने पत्नी मुमताज से इतना प्रेम करते थे की उन्होंने अपनी रियासत के आधे से ज्यादा खजाने ताजमहल को बनवाने की लिए खर्ज कर दिया यही कारण है, की शाहजहाँ को अपने बेटे औरंगजेब द्वारा बंदी बनवाकर जेल में डलवा दिया गया क्योकि औरगंजेब नहीं चाहता था, शाहजहाँ अब कही पैसे को खर्ज करें

History of Taj mahal with 33 facts in hindi

ऐसा कहा जाता है शाहजहाँ एक काला ताजमहल बनवाना चाहते थे जो की ताजमहल से भी ज्यादा सुन्दर और भव्य हो इसे बनवाने के दुनिया भर के कारीगरो को बुलवाया जाना था पर शाहजहाँ का यह सपना शुरू होने से पहले ही ख़त्म हो गया

ताजमहल क्यों बनवाया गया
ताजमहल बनवाने का मुख्य कारण शाहजहाँ का अपनी पत्नी के प्रति प्रेम था और वह चाहते थे दुनिया उनकी इस प्रेम कहानी को हमेशा याद रखे, मुमताज की याद और इस प्रेम को जिन्दा रखने के लिए वो ऐतहासिक धरोहर बनाना चाहते थे इसीलिए ताजमहल बनवाया गया

क्या ताजमहल के नीचे शिव मंदिर है
आप को यह जानकर हैरानी होगी की बहुत से हिन्दु इस बात का दावा करते है की ताजमहल के नीचे शिवमंदिर था जिसमे अग्रेश्वर महादेव नागनाथेश्वर का शिवलिंग स्थापित था जो आज भी ताजमहल के नीचे है
सन 1156 में राजा परमारदेव ने इस मंदिर  निर्माण कराया, जिसे ‘तेजोमहल’ नाम से जाना जाता था परन्तु सन 1131-32 में शाहजहाँ में इस पर पर कव्जा कर लिया और इस मंदिर को मुमताज का स्मारक बना दिया

Read :-  देश के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न के बारें में रोचक जानकारियाँ

ताजमहल के रहस्य/About of  Tajmahal in Hindi

  1. नकली कब्रे – ताजमहल में पर्यटकों को दिखने वाली कब्रें नकली है, जी हा यह  बात पूरी तरह  है दरअसल शाहजहाँ और मुमताज की जो कब्र पर्यटक देखते है उनके ठीक नीचे तहखाने  असली कब्र भी हुई है इन कब्रों तक जाने का रास्ता साल में सिर्फ 3 दिन शाहजहाँ के उर्स के दौरान ही खुलता है तभी आम जनता वहा पर जा सकती है
  2. ताजमहल का निर्माण मुग़ल बादशाह शाहजहां ने कराया, जिनका शासन काल 1628 से 1658 ईस्वी तक था
  3. पहला पर्यटक – आप को यह जानकर हैरानी होगी ताजमहल को देखने आया पहला पर्यटक जीन बैपटिस्ट टैवनिर्यर था जो  एक यूरोपीय था वह सन 1665 में आगरा ताजमहल को देखने आया था                      
  4. पहली सेल्फी – ताजमहल के साथ पहली सेल्फी जॉर्ज हेरिसन ने ली थी इस सेल्फी को लेने की लिए उसने फिस आइलैंस का इस्तेमाल किया था                                                                                               
  5. यमुना पर ताजमहल – क्या आप जानते है अगर यमुना नदी न होती तो ताजमहल भी न होता कयोंकि इसमें इस प्रकार की लकड़ी का प्रयोग किया गया है जो पानी मिलने पर ही मजबूत होती है                                       
  6. सबसे ज्यादा देखे जाने वाली इमारत – यह पूरे विश्व में एक दिन में  सबसे ज्यादा देखी जाने वाली इमारत है इसे देखने के लिए एक दिन 12 हजार लोग आते है                                                                                 
  7. बेगम मुमताज मृत्यु – शाहजहाँ की तीसरी पत्नी जो की शाहजहाँ को सबसे प्रिय थी मुमताज की मृत्यु अपने चौदहबे बच्चे को जन्म देते समय हो गई थी उस चौदहबी बच्ची का नाम गौहर बेगम था
  8. विश्व धरोहर मकबरा – ताजमहल एक विश्व धरोहर मकबरा है जिसे यह दर्जा सन 1983 में दिया गया इसी के साथ इसे भारतीय इस्लामिक कला का रत्न भी घोषित किया गया
  9. लागत – इसको बनवाने के लिए लिए करीब 3 करोड़ रूपये का खर्च आया, जो आज का 65 अरब रूपये के बराबर है                                                    
  10. मुख्य कलाकार – उस्ताद एहमद लाहोरी ताजमहल को बनाने वाले मुख्य कलाकार थे                                    
  11. ढांचा  – ताजमहल का ढांचा अन्य इमारते जैसे हुमायु का मकबरा, जामा मस्जिद आदि को देखकर तैयार किया गया था                                                                                                                                                
  12. अजूबा – सन 2007 में इसे विश्व के सात अजूबो में शामिल किया गया                                                                        
  13. काला ताजमहल – शाहजहाँ खुद को मुमताज की परछाई मानते थे इसीलिए वह ताजमहल के ठीक पीछे काला ताजमहल बनवाना चाहते थे पर इससे पहले उसे उसके बेटे औरंगजेब में कैद कर लिए और यह एक सपना रह गया                                                                                                                       
  14. छत पर छेद – जब शाहजहाँ  यह एलान किया की ताजमहल को बनाने वाले मजदूरों के हाथ काट दिए जाय तो उन्होंने इसकी छत पर एक छेद छोड़ दिया जिससे आज भी बरसात होने पर पानी टपकता है        
  15. गुम्बद को बॉस से ढकना – दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ताजमहल को बॉस से ढक दिया गया था जिससे इस पर किसी दुश्मन की नजर न पड़े और इसको युद्ध से किसी भी प्रकार का  नुकसान न हो उसके बाद 1971 में पाक – भारत युद्ध के दौरान और 9/11 की घटनाओ के बाद भी इसके गुंबद को सुरक्षा की ध्यान में रखते हुए बॉस से ढक दिया जाता था                                                                                                                        
  16. रंग बदलना – ताजमहल दिन में तीन बार रंग बदलता है सुबह  के समय यह थोड़ा गुलाबी नजर आता है, दोपहर के समय सफेद और शाम के समय सुनहरा नजर आता है                                                          
  17. ऊचाई – ताजमहल की ऊंचाई कुतुबमीनार से भी 4.5 फ़ीट ऊँची है                                                            
  18. हाथियों का इस्तेमाल – ताजमहल में प्रयोग किये गए संगमरमर को ढोने एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में 1000 हाथियों का इस्तेमाल किया गया था                                                                                          
  19. बेशकीमती पत्थर – ताजमहल की सुंदरता में चार चाँद  लगाने के लिए उसको 28 प्रकार के बेशकीमती पथ्तरों से सजाया गया था यह पत्थर चीन, तिब्बत और श्रीलंका से लाए गए थे परन्तु उन पत्थरो को अंग्रजो द्वारा चुरा लिया गया                                                                                                                              
  20. फब्बारे – ताजमहल के ठीक सामने जो फब्बारे लगे हुए उनमे कोई पाइपलाइन नहीं है बल्कि इसमें एक तांबे का टैंक बना हुआ है जिससे यह टैंक भरता यही और फब्बारे साथ चलते है                                                 
  21. विश्व का पहला अजूबा – ताज महल को जब आठ अजूबो में शामिल किया गया तब उसके लिए पूरे दुनिया में बोटिंग की गई थी, उस समय ताजमहल को सबसे ज्यादा वोट मिले और ताजमहल पहला अजूबा बन गया                                                                                                                                             
  22. विदेशी कारीगर – ताजमहल को बनवाने के विदेशी गरीगिरो को भी बुलाया गया था जिसमे तुर्की, फारसी, और अन्य कारीगर शामिल थे                                                                                                 
  23. चार मीनारे – ताजमहल के चारो ओर चार मीनारे है जो की बाहर की थोड़ी सी झुकी हुई, इनके झुके होने  का कारण अगर कभी प्राकर्तिक आपदा या भूकंप आये तो इससे ताजमहल को किसी भी प्रकार का नुकसान का न हो                                                                                                                                                    
  24. तीसरी पत्नी – मुमताज शाहजहाँ की तीसरी पत्नी थी जो चौदहबे बच्चे को जन्म देते समय मृत्यु को प्राप्त हो गई थी
  25. कहा जाता है की मुमताज की मृत्यु के बाद उसके शरीर को 6 महीने तक ममी के रूप में लेप लगाकर रखा गया जिससे शरीर ख़राब न  हो शरीर को सही रखने के लिए यूनान हकीमो की मदद ली गई थी
  26. मुमताज की मृत्यु – बुरहानपुर में हुई, जो की अब भारत के मध्यप्रदेश में है लेकिन बाद में इसे ताजमहल में दफनाया गया
  27. मुमताज के साथ दफन है पांच और बेगम – ताजमहल जो की संगमरमर का हुआ है इसमें मुमताज और शाहजहाँ की कब्र है पर ताजमहल के पुरे परिसर में 6 कब्र है इन कब्रों को सहेली बुर्ज के नाम से जाना जाता है                                                                                                                                           
  28. मुमताज की प्रधान सेविका – जिसका नाम सतिउन्नीसा था की कब्र भी ताजमहल के परिसर में है                          
  29. ताजमहल को बनने में कुल 22 साल समय लगा जिसको बनाने में 20000 मजदूरों ने दिन रात काम किया                                                                                                                                                           
  30. मजदूरों को तागत – मजदूरों को एनर्जी मिलती रहे और वो लगातार काम करते रहे इसके लिए उन्हें चाशनी में डूबा हुआ पेठा खिलाया जाता था                                                                                                                      
  31. ताजमहल शाहजहाँ में बनवाया है इस बात का कोई भी सबूत नहीं है                                                                  
  32. यह सुनंने में आपको मजाक लगेगा, पर ताजमहल के बारे में यह भी कहा जाता है की इसे एक व्यक्ति जिसका नाम नटवर लाल था उसने  इसे मंदिर बताकर बेच दिया था                                                          
  33. यह राजा जयसिह की जमीन पर बना हुआ था जो की जयपुर  के राजा थे इस जमीन के बदले में शाहजहाँ ने उन्हें एक महल दिया था 

Read :- भारत देश के बारें में अनसुनी बातें
यह History of Taj mahal with 33 facts in hindi कई जगह से जानकारी एकत्रित कर आप तक पहुचाये  गए पर यह जानकारी एकत्रित करने के दौरान के हमने पाया की एक ही चीज के बारें में अलग अलग जानकरी है जैसे कही पर ताजमहल को बताया गया है की यह 20 में बनकर तैयार हुआ और कही पर 22 साल में इसी तरह अन्य फैक्ट्स भी Different हो सकते है

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *