Jimmedar kaun short moral story in hindi – जिम्मेदार कौन

आज का Era बहुत ही तेजी से बदल रहा है पर साथ ही साथ Technology भी बदल रही है पर लोंगो की सोच आज भी पहले जैसे ही है क्योंकि भी कुछ करने की आती है तो लोग कहते है यह मेरा काम नहीं है इसे मैं क्यों करू जिस में मेरा क्या फायदा होगा और उस काम छोड़  देते है और फिर कहते है कि इस देश का कुछ नहीं हो सकता पर क्यों नहीं हो सकता यह भी तो सोचिये उस के लिए कौन जिम्मेदार है कौन इन कामो को रोकने का कारण है अगर आप इस का सवाल का जवाब ढूढेंगे तो आपको इसका जवाब मिलेगा कि मैं खुद इसके लिए जिम्मेदार हूँ क्योंकि आप भी कुछ नहीं करते –
एक दिन तेज हवा के कारण छोटा पेड़ रास्ते में सड़क पर गिर गया और जाम लग गया पुलिस नहीं वहां पर आ गई पर उसने पेड़ को हटाने के लिए कुछ मजदूरों को  बुलवाने के फोन किया पर उन मजदूरों को आने में समय लग रहा था तो लोग परेशान होने लगे और कहने लगे इस देश का कुछ नहीं होने वाला पर किसी ने यह नहीं सोचा की हम भी इस पेड़ को अलग कर सकते है।
क्योंकि इसे तो आठ नौ लोग आसानी से अलग कर सकते है और यह जाम के कारण तो सैकड़ो की भीड़ इक्क्ठी हो चुकी है पर किसी ने कुछ नहीं किया तभी एक बच्चा कहीं से आया और उस पेड़ को अलग करने की कोशिश करने लगा और उसे देख और भी बच्चे आ गए सभी ने मिलकर उस पेड़ को अलग करने की कोशिश की तो फिर लोंगो को थोड़ी शर्म महसूस हुई और फिर वह अपनी गाडिये में से उतरकर उस पेड़ अलग अलग करने में बच्चो की मदद करें लगे और पेड़ आसानी से रास्ते से अलग हो गया ।
सीख – कुछ कामो को हम खुद कर सकते है वो भी बड़ी आसानी से पर करना नहीं चाहते जैसे इस कहानी में पेड़ तो हम अलग कर सकते थे और बच्चो की जरूरत भी नहीं पड़ती पर हुआ क्या लोग बच्चो की मदद करें के लिए गए।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *