Motivational stories in Hindi

Motivational stories in Hindi

शायद ही ऐसा कोई इंसान होगा जिसके जीवन में हताशा न आई हो और हताश न हुआ हो और इससे निपटने के लिए हर व्यक्ति को मोटिवेशनल की जरूरत होती है क्योंकि परेशान होना किसी भी समस्या का सोलुशन नहीं है आज इन दो Motivational Story in Hindi के माध्यम से आज आपको प्रेरणा मिलेगी जिससे आप बहुत ही सरल महसूस करेंगे

Motivational stories

 

Story:-1अपनों की पहचान 
एक गांव में एक सुनार रहता था उसकी दुकान के बगल में एक लोहार की दुकान थी सुनार जब काम करता तो दुकान से बहुत धीमी आवाज आती परन्तु जब लोहार काम करता तो उसकी दुकान से कानों को फाड़ देने वाली आवाज सुनाई देती एक दिन एक सोने का कण लोहार  की दुकान में आ गया वहां उसकी भेंट लोहार के एक कण के साथ हुई सोने के कण ने लोहे के कण से पूँछा भाई हम दोनों का दुःख एक समान है हम दोनों को एक समान आग में तपाया जाता है और समान रूप से हथौड़े की चोट सहनी पड़ती है पर मैं यह सब यातना चुप चाप सहता हूँ पर तुम बहुत चिल्लाते हो क्यों लोहे के कण ने मन भारी करते हुए कहा – तुम्हारा कहना सही है

– उसने कुछ इस तरह जवाब दिया किन्तु तुम पर चोट करने वाला हथौड़ा तुम्हारा सगा भाई नहीं है मुझ पर चोट करने वाला लोहे का हथौड़ा मेरा सगा भाई है परायो की तुलना में अपनों द्वारा दी गई चोट अधिक पीड़ा पहुँचाती  है
Story:-2 जीवन की सच्चाई 

एक आदमी की चार पत्निया थी
वह अपनी चौथी पत्नी से बहुत प्यार करता था और खूब देखभाल करता और और अच्छे से रखता वह अपनी तीसरी पत्नी से भी प्यार करता था और हमेशा उसे अपने मित्रो को दिखाना चाहता था पर उसे डर था की वह किसी  से साथ भाग जाएगी वह अपनी दूसरी पत्नी से भी प्यार करता था जब ऐसे कोई भी परेशानी आती तो वह व्यक्ति उसी के पास जाता और वो उसकी समस्या सुलझा देती
वह अपनी पहली पत्नी से प्यार नहीं करता था, क्योकि वह दिखने में ज्यादा खूबसूरत नहीं थी पर वह उससे खूब प्यार करती थी और उसकी हर चीज का ख्याल रखती थी
एकदिन वह व्यक्ति बीमार पड़ गयाऔर उसे लगने लगा की अबवह ज्यादा दिन तक जिन्दा नहीं रहेगा
उसने सोचा कि मेरी चार पत्निया है वह उनमे से एक को साथ ले जाता हूँ जब मैं मरुं वह मरने में मेरा साथ देगी
उसने चौथी पत्नी जिससे वह सबसे ज्यादा प्यार करता था अपने साथ चलने को कहा तो वह बोली मैं आपके साथ नहीं मर सकती और वह वहाँ से चली गयी
उसने तीसरी पत्नी से पूंछा तो वह बोली जिंदगी बहुत अच्छी और हां जब तुम मरोगे तो मैं दूसरी शादी कर लूँगी
उसने दूसरी पत्नीसे कहा तो वह बोली माफ कर दो इस बार मैं तुम्हारी कोई मदद नहीं कर सकती पर जब तुम मरोगे तो मैं ज्यादा से ज्यादा तुम्हारे दफ़नाने तक तुम्हारे साथ रह सकती हो
उसे यह सुनकर बहुत दुःख हुआ और वह रोने लगा तभी पीछे से आयी मैं चलूँगी तुम्हारे साथ उसने पीछे मुड़कर देखा तो वह उसकी पहली पत्नी थी वह आदमी पश्चाताप के साथ बोला –
मुझे तुम्हारी देखभाल करनी चाहिए थी और मैं कर कर सकता था   पर अब समय बीतचुका है मुझेमाफ कर दो
दरअसल जीवन में हम सबकी चार पत्निया है
  • चौथी पत्नी है हमारा शरीर – हम चाहे कितना भी इसे कितना भी सजा ले पर जब हम मरेंगे तो यह हमारा साथ छोड़ देगा
  • तीसरी पत्नी है हमारी जमा पूंजी – जब हम मर मरेंगे तो यह दूसरो के पास चली जाएगी
  • दूसरी पत्नी है हमारे दोस्त व रिस्तेदार – चाहें वे कितने भी करीबी क्यों न हो पर मरने के बाद ज्यादा से ज्यादा वह हमारे अंतिम संस्कार साथ रहते है
  • चौथी पत्नी है हमारी आत्मा – जो की सांसारिक मोह माया से उपेक्षित रहती है यही वह चीज है जिसकी हमे देखभाल करनी चाहिए और प्यारकरना                                                                                               अगर आपको यह Motivational stories in Hindi पसंद आयी है तो कमेंट करके हमे बताये और हमारे Hindihint.com के फेसबुक पेज को लाइक जिससे आपको ऐसी ही और स्टोरी मिल सकें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *